Youth For Work In The Agriculture field Why Not

youth for work, youth for work.com, youth4work register, youth4work registration, youth for work login

Youth For Work In The Agriculture field Why Not |आखिर क्यों नहीं करना चाहते आज के युवा खेती। ऐसी कौन सी बातें है, जो युवाओ को खेती विश्व का सबसे बेहतरीन व्यवसाय करने से रोकती है। ये सब जानकारी देने का मुख्य कारण युवाओ को कृषि और खेती के प्रति जागरूक करना है ।

Youth For Work | युवा खेती क्यों नहीं करना चाहते

खेती विश्व का सबसे बड़ा और बेहतरीन व्यवसाय है । लेकिन आज के युवा इस बात को लेकर अनजान है । इसके लिए बहुत से कारण बनते है ।

बड़ो से प्रेरणा न मिलना

सबसे बड़ा और पहला कारण तो यही बनता है । खेती में लगे हुए लोग अपने बच्चों को बडी से बड़ी पढ़ाई करने के लिए प्रेरित करते है ताकि वो पढ़ लिख कर कोई बड़ा अफसर या नौकरी को पा सके । एक किसान खुद नही चाहता कि उसका बेटा भी उसकी तरह खेती करें , धूप में तपे, धूल में सने, भुखा रह कर भी काम करें । क्या आपके हिसाब से एक किसान का इस तरह सोचना सही है या नही । जहां तक मेरा सवाल है मेरे हिसाब से तो वो सही सोचते है । लेकिन वो ऐसा किस लिए सोचते है । ये भी जानना बहुत जरूरी है ।

भारतीय कृषि का इतिहास जरूर जाने

एक किसान क्या करता है । वो आज भी पारंपरिक ढंग से खेती करता है । बुजुर्गो से मिले ज्ञान के आधार पर ही आज भी चलता है । उसकी तरह खेती करें , धूप में तपे, धूल में सने, भुखा रह कर भी काम करें । क्या आपके हिसाब से एक किसान का इस तरह सोचना सही है या नही । जहां तक मेरा सवाल है मेरे हिसाब से तो वो सही सोचते है । लेकिन वो ऐसा किस लिए सोचते है । ये भी जानना बहुत जरूरी है । एक किसान क्या करता है । वो आज भी पारंपरिक ढंग से खेती करता है । बुजुर्गो से मिले ज्ञान के आधार पर ही आज भी चलता है ।

भारतीय युवा

youth for work, youth for work.com, youth4work register, youth4work registration, youth for work login
youth for work

जैसे समय के साथ सब कुछ बदलता है वैसे किसान ने खुद को नही बदला इसकी वजह है जागरूकता की कमी । पुराने तरीको से खेती करने की वजह से किसान आमदनी को बड़ा नही पाता और जीवन भर संघर्ष करता है । बस इसी वजह से वो खुद के बच्चों को नौकरी करने के लिए प्रेरित करता है ।भारत एक कृषि प्रधान देश है जहां की 75% भूमि कृषि योग्य  है लेकिन फिर भी युवा

कड़कनाथ चिकन के बारे में कुछ रोचक बातें

खेती को कोई अहमियत नही देते । किसान का अपने बच्चे को नौकरी करने के लिए प्रेरित करना सही भी है और नही भी । किसान यही सोचता है के खेती में क्या रखा है । आज फसल बुआई करों 6 महिने तक इंतेजार करों फसल के पकने का और फिर भी अगर कोई बारिश का प्राकृतिक आपदा आ गयी तो फसल नष्ट हो जाती है और 6 महीने की मेहनत पर पानी फिर जाता है । मुफ्त में बैठे बिठाए कर्ज सर चढ़ जाता है ।

Youth For Work | किसान की सोच

समझ तो है कि खेती करनी है । लेकिन सोच नही बदली दिल से डर नही गया दिमाग में पारंपरिक ढंग बैठा हुआ है ।

जिसकी वजह से किसान अक्सर ये सवाल रखता है ।

  1. इस बार फसल अच्छी नही हुई ।
  2. अब की बार फसल के दाम अच्छे नही है ।
  3. इस सरकार ने किसान का नाश कर दिया ।
  4. फसल को बीमारी ने तबाह कर दिया ।
  5. Govt. मदद नही करती ।
  6. सूखा मौसम ज्यादा रहा ।
  7. बारिश ने फसल तबाह करदी ।
  8. मेरे पास तो जमीन थोड़ी है ।
  9. इतने उवर्क डाले फिर भी कम उपज ।
  10. साधनो की कमी है ।

ऐसे बहुत से सवालों के साथ किसान शुरुआत से लेकर अंत तक जीता है । लेकिन उसका डर उसे कुछ नया करने की कोशिश नही करने देता और किसान ऐसा ही रहता है । बच्चों के सामने ये सारी बातें बार बार आती है और उनके दिमाग को संकेत मिल जाता है के खेती करना बेकार का काम है ।

युवा | Youth For Work In The Agriculture field Why Not?

क्या करते है युवा एक किसान बाप से प्रेरित होकर पढ़ते है बड़ी बड़ी पढ़ाई लेकिन उसके बावजूद भी नौकरी नही मिलती या फिर कोई नौकरी मिल भी जाएं तो घर से बहुत दूर जाना पड़ता है । आज के युवा कृषि के क्षेत्र में msc, phd जैसी पढ़ाई तो कर लेते है पर करते है सिर्फ नौकरी पाने के लिए नही सोचते की अगर शिक्षा और किसान एक हो जाए तो क्या कर सकते है । युवा जब तक खुद जागरूक नही होगा तब तक खेती के क्षेत्र को बढ़ावा नही मिलेगा । अब तो युवा वर्ग को समझ जाना चाहिए कि खेती ही एक ऐसा व्यापार है जिसको जितना चाहो बड़े  पर बढ़ावा दे सकते है।

मिटटी की अहमियत को समझो

मैं सभी युवा लोगो को से यही कहूंगा की मिटटी की अहमियत को समझो। जानो इसको ये क्या नहीं कर सकती हमारे लिए इसी मिटटी से किसान अनाज ऊगाता है और पूरा देश उस अनाज से बनी रोटी को खाकर अपना पेट भरता है। यही मिटटी है जिसमे हम बीमार को ठीक कर देने वाली जड़ीबूटियां उगते है। ऐसी जड़ी बूटियां जो जटिल से जटिल रोगो को नष्ट कर देती है। यही मिटटी वस्त्र बनाने के लिए धागा देती है कपास की खेती करके पूरी दुनिया को वस्त्र योग्य बनाती है ये मिटटी। तो क्यों न हम मिटटी से दोस्ती करले छोड़ दे ऐसे काम को जो सिर्फ किसी एक को आमिर बनाते है। अपना लो कृषि को जो सबका पेट भर्ती है।

मेरा सुझाव | Youth For Work

यही कहना चाहूंगा भारत देश के युवाओ को “मिटटी से ना नाता तोड़ो , उन राहों से मुँह तुम मोड़ो, जिनमे हो स्वार्थ भरा पेट बस एक का हो भरा, काम करों ऐसा खर्रा, जिसका अँधियारा भी हो उजालो से भरा”  

निष्कर्ष | conclusion

Youth For Work In The Agriculture field Why Not? | यहाँ मैंने एक कोशिश की है अपने शब्दों के माध्यम से युवा वर्ग को खेती के प्रति जागरूक करने की। पता नहीं मेरे शब्द आपको कैसे लगे अच्छे या बुरे आप खुद ही बता देना। ठीक लगे तो दूसरों को भी जागरूक करना।

“धन्यवाद”

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *