Kadaknath chicken benefits

By | 8th January 2019
kadaknath chicken benefit
https://agriculturetech.online/kadaknath-chicken-benefits/

स्वागत है आपका | Kadaknath chicken benefits को जानने के लिए आप इस लेख को पूरा जरूर पढ़े। यहाँ जानकारी दी गयी है Kadaknath chicken benefits के बारे में जो आज भारत के अलावा विदेशो में भी बहुत चर्चा में है। कड़कनाथ मुर्गा व्यापार और सेहत दोनों को फायदा पहुंचा रहा है लेकिन कैसे आइये जाने।

Kadaknath chicken benefits

कड़कनाथ मुर्गे का व्यापार करके लाखों का फायदा ले सकते है । chicken को खाना एक आम बात है

लेकिन कड़कनाथ चिकन की तो बात ही अलग है । बहुत से लोग तो इसके लिए दूर दूर तक जाते है।

अभी इसकी संख्या कम होने के कारण लोगो को ये परेशानी उठानी पड़ रही है।

लेकिन सरकार द्वारा चलाये गए अभियान के चलते कड़कनाथ लोगो तक आसानी से उपलब्ध हो पायेगा।

बहुत से लोग तो इसके लिए दूर दूर तक जाते है।

अभी इसकी संख्या कम होने के कारण लोगो को ये परेशानी उठानी पड़ रही है।

लेकिन सरकार द्वारा चलाये गए अभियान के चलते कड़कनाथ लोगो तक आसानी से उपलब्ध हो पायेगा।

कड़कनाथ | Kadaknath chicken benefits

कड़कनाथ मध्य्प्रदेश के झाबुआ जिले के जो आदिवासी है उनके द्वारा पाली जाने वाली मुर्गे की एक प्रजाति का नाम है।

इसको स्थानीय भाषा मे काली मासी भी कहा जाता है ।

इसका ये नाम सिड इसलिए पीडीए क्योंकि इसका रंग भी कला होता है और मांस भी काला होता है ।

इसका मांस खाने में बेहद स्वादिष्ट होने के साथ साथ अनेक रोगों में लाभकारी भी है ।

देश मे ही नही विदेशों में भी इसकी मांग तेज़ी से बढ़ रही है ।

अगर इसका पोलट्री फार्म शुरू किया जाए तो ये एक बढ़िया आमदनी का  जरिया बन सकता है ।

क्योंकि इसका मांस और अण्डे बहुत अच्छे दाम पर बिकते है।

kadaknath chicken benefit

Identity of Kadaknath | इसकी पहचान के बारे में जान लीजिए

इसकी पहचान है इसका काला रंग इसके शरीर का हर हिस्सा काला होता है जीभ, मांस, हड़िया, पंख, अण्डे सब ।

इसके अंडे काले या भूरे रंग के होते है ।

Category | इसको तीन श्रेणियों में बांट सकते है

पहली श्रेणी है zed black जैसा कि नाम में ही पता चल रहा है ये पूरी तरह से काला होता है ।

दूसरी श्रेणी है Pencil इस श्रेणी वाले मुर्गे के पंखों पर pencil नुमा सफेद धब्बे होते है ।

तीसरी श्रेणी है Golden kadaknat  इस श्रेणी के मुर्गे के शरीर पर गोल्डन रंग के धब्बे दिखाई देते है ।

अगर इसका पोल्ट्रीफार्म बनाना चाहते है तो उसके लिए कुछ जरूरी बातें जान ले ।

Kadaknath chicken business शुरू करने में कुछ जरूरी बातें

पोल्ट्रीफार्म में अगर आप 100 चिकन रख रहे है तो उसके लिए आपको 150 वर्गफीट जगह की आवश्यकता होगी।

शुरुआत के लिए पोल्ट्रीफार्म की जगह गांव या शहर से दूर होनी चाहिए ध्यान रहे में रोड भी नजदीक न हो तो अच्छा है ।

पोल्ट्रीफार्म को ऊंची जगह पर बनाये ताकि किसी भी प्रकार से पानी अंदर न जाये ।

बिजली का विशेष प्रबंध हो ।

खाने पीने के बर्तन साफ सुथरे हो । दो या तीन दिन के अंतराल पे बर्तनों की सफाई जरूर करे ।

खाने का विशेष प्रबंध रखे रात में इनको खाना न दे ।

शेड में हर श्रेणी के लिए अलग स्थान निश्चित करके रखे ।

रोशनी ओर हवा का विशेष प्रबध रखे ।

Where to pick poultry for poultry farming | पोल्ट्रीफार्म के लिए मुर्गे कहाँ से ले

kadaknath chicken benefit

इसकी मांग अधिक होने के कारण ओर संख्या कम होने के कारण एक दम से ये आपको सायद न

मिल पाए । हो सकता है आपको एक साल के लिए इन्तेजार ही करना पड़े ।

इसके लिए आप अपने नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र से संपर्क करे हो सकता है वो आपको इसके मुर्गे जल्दी उपलब्ध करा दे ।

अगर आपके आस पास कोई इस जाति के मुर्गे फार्म में रखता है तो आप उनसे संपर्क करे हो सकता है वही से आपका काम बन जाये ।आप ऑनलाइन भी इसके चूज़े खरीद सकते है । एक काम जरूर करे अगर आप ये काम शुरू करने जा रहे है तो एक बार किसी संस्था या फार्म पे जा कर इसके बारे में  प्रशिक्षण जरूर ले ।

अच्छी जानकारी ले कर अच्छी तरह से जब आप ये काम शुरू करेंगे तो मुनाफा भी अच्छा ही होगा ।

Kadknath chicken से जुड़ी रोचक बातें

इसमे अंडे की डिमांड अधिक होने के कारण अंडे की कीमत 25 रुपये से लेकर 100 रुपये तक चली जाती है।

एक मुर्गे की कीमत 1000 रुपये से लेकर 4500 रुपये तक होती है ।

मध्यप्रदेश के झागुआ जिले का जो कृषि विज्ञान केंद्र है वहां के वैज्ञानिकों ने क्रिकेट के खिलाड़ियों को kadknath मुर्गे का मांस खाने की सलाह दी है ।

क्योंकि इसका मांस अन्य मांस के मुकाबले काफी स्वास्थ्यवर्धक होता है ।

छतीशग़ढ़ ओर मध्यप्रदेस में इस बात को लेकर झगड़ा है के ये उनके यहां की नस्ल के है ।

ये भारतीय नस्ल के मुर्गा है इसमे रोग बहुत कम लगते है ।

जो अकाल ग्रस्त इलाके है उनकी जीविका का ये एक अच्छा साधन बन चुका है ।

व्यवसाय के लिए तो ये फ़ायदेमंद है ही उसके साथ जो मांस खाने वाले लोग है ये उनके लिए भी बेहद फायदेमंद है ।

क्योंकि सफेद चिकन के मुकाबले इसमे कोलेस्ट्रॉल कम होता है ओर एमिनो एसिड बहुत

ज्यादा होता है प्रोटीन की मात्रा इसके मास में भरपूर पाई जाती है ।

इसके मास में अक्षय रोग,सुगर, दमा व माइग्रेन जैसी बीमारियों में आराम पहुचने की क्षमता पाई गई है ।

90 के दसक में कड़कनाथ प्रजाति हो गयी थी विलुप्त

जी हां ये बात बिलकुल सच है के कड़कनाथ मुर्गे की नस्ल विलुप्त होने की कगार पे ही थी ।

कुछ लोग इसको बचाने की कोशिश में लगे हुए थे पर कामयाबी नही मिल पा रही थी ।

फिर भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे NAP प्रोग्राम के तहत इस प्रजाति को जोड़ा गया और इसकी संख्या बढ़ाने के लिए काम शुरू किया गया ।

कृषि विज्ञान केंद्र वैज्ञानिको ने जब इसके बारे में पूछताछ की तो लोगो ने बताया के इस जाति की मुर्गे वो काफी समय से पाल रहे है

ना तो जन मुर्गो का वजन बढ़ता है और न वो ज्यादा दिन जिंदा रहते है ।

अच्छी तरह से परीक्षण करने के बाद पता चला के खुराक सही न मिलने और टीकाकरण न होने के कारण ऐसा हो रहा था

फिर जब इस प्रॉजेक्ट पर वैज्ञानिको द्वारा काम किया गया तो 4 महीने के अंदर ही उनको बहुत

बढ़िया नतीजे देखने को मिले और kadknath chicken की जाती में वृद्धि होने लगी ।

kadaknath chicken benefits

Earning | मुनाफा कितना है kadknath poultry farming से

अगर कोई 100 मुर्गे का पोल्ट्रीफार्म शुरू करता है तो वो भी 4 महीने के अंदर 1 लाख रुपये आराम से कमा रहा है ।

यही आंकड़ा अगर एक साल का लगाए तो 300000 लाख रुपये सालाना बनेगा जोकि एक बहुत अच्छी आय होगी ।

Conclusion | निष्कर्ष

Kadaknath chicken benefits | यहाँ मैंने आपको पूरी जानकारी देने की कोशिश की है।

फिर भी अगर कोई बात रह जाती है तो मैं जल्द ही जानकारी अपडेट करने की कोशिश करूंगा।

अगर आपका कोई सुझाव या सवाल है तो आप कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते है।

आप हमसे Facebook , Instagram , Whatsapp के माध्यम से भी जुड़ सकते है।

अधिक जानकारी के लिए यहाँ जरूर देखे

“धन्यवाद”

3 thoughts on “Kadaknath chicken benefits

  1. Pingback: Beneficial insects control farming technology - Agriculture Tech in India

  2. Pingback: Floating Farms In India Farming Technology - agriculture technology

  3. Pingback: Youth For Work In The Agriculture field Why Not agriculture

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *