farmer life style-किसान जीवन शैली

By | 31st October 2018
farmer life style-किसान जीवन शैली
https://agriculturetech.online/farmer-life-style/
farmer life style-किसान जीवन शैली
farmer life style-किसान जीवन शैली

farmer life style-किसान जीवन शैली  हमेशा से  चर्चा का विषय रहा है। समय में बदलाव के साथ साथ किसान  शैली  में भी काफी बदलाव आये है। जैसा की आप सब जानतें है। सहर और गाँव दोनों में रहन सहन के तोर तरिके अलग अलग नजर आते है। सहरीकर्ण तेजी से बढ़ती आबादी के साथ बहुत सारे बदलावों को झेलता आया है। यही हाल गाँव का भो रहा है। तो आइये चर्चा करते है, गाँव में रहने वाले किसान रहन सहन के बारे में। 

Bhartiya kisan (farmer life style-किसान जीवन शैली)

भारतीय किसान यानी के भारत के ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाला एक ऐसा इंसान जो पुरे देश का पेट भरने के लिए अपने खेत में फसल उगाता है ताकि सभी को अन्न की प्राप्ति हो। लेकिन इस बात को कोई अहमियत नहीं देता की अन्न दाता कैसे जीवन व्यतीत करता है। कैसे पालन करता है अपने परिवार का। क्या अन्न दाता  को कोई  कठिनाई होती है। क्या अन्न दाता अपने सपनो को पूरा कर पता है।

आइये जान ने की कोशिश करते है के किसान कौन है और उसकी जीवन शैली कैसी रही ,

Who is the farmer-किसान कौन है

किसान एक इंसान है बस क्या इतना कहना काफी होगा भारतीय किसान के बारें में नहीं किसान वो है

Farmer’s health-किसान का स्वास्थ्य

  • जो धरती का सीना चीर कर अनाज पैदा करता है ,
  • जो खुद भूखा रह कर भी देश का पेट भरता है ,
  • माटी की खुशबू से जिसका जीवन मैहकता है ,
  • प्राकृति की गोद में जिसका जीवन पलता है ,
  • तपती धुप में भी अकेले काम करता है ,
  • जो आँधियों से लड़ कर मुकाम हासिल करता है 
  • बारिश की बूंदो में खुशियों को बहा देता है 
  • जो कड़ाके की ठण्ड को सलाम ठोक कर चलता है 
  • जिसके खून पसीने की दास्ताँ ब्यान एक एक अन्न का दाना करता है 
  • जो माटी से शुरू होकर माटी में ही जा मिलता है ,

ये होता है किसान अब बात करते है हरित क्रांति से पहले किसान का रहन सहन कैसा था। 

Inspiration for the life of the farmer

अन्न दाता यानि किसान का जन्म से ही एक उद्देश्य होता है खेत में अन्न उत्पन करके देश की सेवा करना।

किसान की जीवन  शैली  

किसान की जीवन शैली शुरुआत से ही बहुत ही साधारण रहा है। गाँव का खुशहाल वातावरण  किसान के जीवन के लिए प्रेरणा दायी रहा है। 

Farmer’s dress

उसका कार्य कृषि करके अन्न पैदा करना होता है। किसान का पहनावा एक दम सादा होता है धोती कुर्ता सर पे पगड़ी और हाथ में लाठी लिए जोकि अन्न दाता की पहचान बन  चूका है। 

Feeling of harmony and unity-मेलजोल और एकता की भावना

एक किसान की सुबह होते ही वो अपने सहायक मित्र पशुओ को चारा डालता है। उसके साथ उसकी पत्नी भी जग जाती है। पशुओ को चारा देने के बाद किसान को सीधा अपने खेत की याद आती है, और वो अपने काम पे निकल पड़ता है अपनी आँखों में आशा की किरणों को भरके की अब की बार फसल अच्छी होगी तो कुछ अनाज बाजार में बेच कर अपने परिवार के लिए नए कपडे खरीदूंगा और  बच्चों के लिए मिठाई।   

अपने सपनो को भूल कर (farmer life style-किसान जीवन शैली)

किसान अपने सपनो को भूल कर परिवार और देश की सेवा में ही अपने सुख का अनुभव करता है। कृषि में सहायक पशु किसान के अनोखे मित्र होते है। ये विभिन्न प्रकार से किसान को लाभ देते है। ये भी किसान के जीवन का एक हिस्सा है।

पशुओ को भी घर के साथ बनने बाड़े में रखा जाता था। आज़ादी से पहले गाँव में सभी कच्चे मकान और घास फूस से बनी झोपड़ियों में ही जीवन व्यतीत करते थे। घर और आँगन की धरती को गोब्बर से लीपा जाता था। आँगन में तुलसी का पौधा लगा कर उसकी पूजा की जाती थी। 

अपने जीवन की बहुत कम और छोटी छोटी सी जरूरतों को पूरा करने में लगा रहता था किसान पहले खाने के लिए संघर्ष बहुत अधिक करना पड़ता था। बस ऐसे ही मिल जूल कर किसान अपना जीवन व्यतीत करता था आज़ादी से पहले। 

Hard work-कठिन परिश्रम 

Conclusion

आज़ादी से पहले किसान के जीवन के बारें में मेरे द्वारा दी गयी जानकारी  आपको कैसी लगी जरूर बताये 

भविष्या में हमसे जुड़े रहने के लिए किसान और कृषि उपकरणों की जानकारी प्राप्त करने के लिए मुफ्त सदस्य्ता प्राप्त करें अपने email id  के द्वारा।

Natural resources-प्राकृतिक साधन

सरदार वल्लभ भाई पटेल के ये 10 विचार आज भी रगों में भर देते हैं जोश

“धन्यवाद्”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *