agricultural equipment rotavator-कृषि उपकरण रोटावेटर

agricultural equipment rotavator-कृषि उपकरण रोटावेटर

rotavator
rotavator

Agricultural-equipment-rotavator-रोटावेटर आज की आधुनिक तकनीक का कृषि उपकरण है। इसका मुख्यतः कार्य खेत में मिट्टी की गांठ को तोड़ना,  मिट्टी को भुरभुरा बनाना, और हरी खाद को मिट्टी में मिलाने का है लेकिन यह हर तरह की मिट्टी पर काम कर सकता है इसलिए किसान इस उपकरण के द्वारा खेत की जुताई करके हर तरह से लाभ उठा रहा है।

किसान को रोटावेटर से फायदा

कृषि उपकरण रोटावेटर द्वारा किसान कम खर्च में खेत की जुताई कर सकते हैं। जहां टिलर और हैरों के द्वारा खेत की जुताई दो बार करने पर मिट्टी भुरभुरी होती है। वहां रोटावेटर के द्वारा सिर्फ एक बार में ही मिट्टी भुरभुरी हो जाती है। जिससे किसान का कम खर्च आता है।

फसल को फायदा

रोटावेटर के साथ की गई खेत की जुताई से मिट्टी बिल्कुल भुरभुरी हो जाती है। भुरभुरी मिट्टी मैं बिजाई करने पर बीज के उगने की दर बढ़ जाती है और बीज को पौधा बनने में कोई रुकावट नहीं आती वह आसानी से बढ़ोतरी कर सकता है।

मिट्टी का भुरभुरा होने के कारण पौधा अपनी जड़े पूरी तरह से फैलाने में सक्षम हो जाता है और पौधा स्वस्थ पैदा होता है, पौधे के स्वस्थ पैदा होने के कारण फसल की पैदावार में बढ़ोतरी होती है।

मिट्टी को फायदा

रोटावेटर से खेत की जुताई करने के बाद मिट्टी भुर भुरी हो जाती है, मिट्टी के भुरभुरा होने के कारण मिट्टी के स्वास प्रणाली में सुधार होता है। मिट्टी के अंदर वायु आसानी से अपना प्रसारण कर सकती है जिसके कारण मिट्टी की उपजाऊ शक्ति बढ़ती है।

सिंचाई में फायदा

रोटावेटर से खेत की जुताई करने के बाद मिट्टी भुरभुरी हो जाती है। जिसके कारण मिट्टी में वायु प्रसारण की गतिविधि में सुधार होता है और भूमि के रोम छिद्र खुल जाते हैं। रोम छिद्र खुलने से सिंचाई करने पर जल धरती में गहराई तक जाता है और काफी लंबे समय तक मिट्टी में नमी बनी रहती है। जिसके कारण कम सिंचाई में ही फसल तैयार हो जाती है।

रोटावेटर की बनावट

वैसे तो रोटावेटर का आकार उसकी जरूरत के हिसाब से दिया जाता है। रोटावेटर 4 फुट से लेकर 12 फुट तक के आकार में बनाएं जाते हैं। इसके बाद इसको अपनी जरूरत के हिसाब से आकार दे सकते हैं। जितना बड़ा आकार होगा इसको चलाने वाली मशीनरी ट्रैक्टर की ताकत भी उतनी ही ज्यादा लगेगी। इसलिए रोटावेटर का आकार ट्रैक्टर की हॉर्स पावर के हिसाब से बड़ा

या छोटा किया जाता है। रोटावेटर की बनावट आयताकार होती है। रोटावेटर बहुत सारे छोटे बड़े उपकरण के हिस्सों को तकनीकी रूप से जोड़कर बनाया गया है।रोटावेटर के आकार के अनुसार ऊपर की तरफ एक लंबा चौड़ा तखत रूपी लोहे से बना फट्टा लगा होता है। ऐसा हीे एक फट्टा रोटावेटर के पिछले हिस्से में लगाया जाता है।

मध्य स्पीड गियर बॉक्स

रोटावेटर के मध्य स्पीड गियर बॉक्स लगाया जाता है।जो कि रोटावेटर को मशीनरी के साथ जुड़ने के बाद घूमने में मदद करता है।रोटावेटर के दाएं और बाएं दोनों तरफ रोटावेटर को घुमाने के लिए विशेष गरारियों का इस्तेमाल किया जाता है और उन गरारियो को लोहे से बने फ्रेम के साथ ढक दिया जाता है, ताकि उन पर मिट्टी का असर न पड़े।

किसान का रहन सहन

इन कार्यों के साथ अंदर की तरफ एक रोलर लगा होता है जिसके ऊपर रोटर ब्लेड लगाए जाते हैं। रोटर ब्लेड की संख्या वैसे तो रोटावेटर के आकार के ऊपर निर्भर करती है लेकिन और रोटावेटर के एक पूरे घेरे में 6 मजबूत लोहे की पत्तियां लगी होती है। रोटावेटर को दाएं बाएं ऊपर की तरफ और पीछे की तरफ से ढका हुआ बनाया गया है।

agricultural-equipment-rotavator

इसलिए देखने पर यह एक अलग सा लोहे से बना आयताकार बक्से जैसा प्रतीत होता है। इसमें एक रोटर सॉफ्ट भी लगी होती है। उपर के हिस्से मे बना 3 पॉइंट फ्रेम ट्रैक्टर के साथ जुड़कर काम में आता है। रोटावेटर को ट्रैक्टर के साथ चलाने के लिए एक ड्राइव सॉफ्ट का इस्तेमाल किया जाता है इस चौखट का एक सिरा ट्रैक्टर में और एक सिरा रोटावेटर में जोड़ा जाता है ट्रैक्टर का इस्तेमाल करने पर यह सॉफ्ट और रोटावेटर को घुमाने का काम करती है यह थी रोटावेटर की बनावट…….

एक रोलर लगा होता है

इन कार्यों के साथ अंदर की तरफ एक रोलर लगा होता है जिसके ऊपर रोटर ब्लेड लगाए जाते हैं। रोटर ब्लेड की संख्या वैसे तो रोटावेटर के आकार के ऊपर निर्भर करती है लेकिन और रोटावेटर के एक पूरे घेरे में 6 मजबूत लोहे की पत्तियां लगी होती है। रोटावेटर को दाएं बाएं ऊपर की तरफ और पीछे की तरफ से ढका हुआ बनाया गया है।

लोहे से बना आयताकार

इसलिए देखने पर यह एक अलग सा लोहे से बना आयताकार बक्से जैसा प्रतीत होता है। इसमें एक रोटर सॉफ्ट भी लगी होती है। उपर के हिस्से मे बना 3 पॉइंट फ्रेम ट्रैक्टर के साथ जुड़कर काम में आता है। रोटावेटर को ट्रैक्टर के साथ चलाने के लिए एक ड्राइव सॉफ्ट का इस्तेमाल किया जाता है इस सॉफ्ट का एक सिरा ट्रैक्टर में और एक सिरा रोटावेटर में जोड़ा जाता है ट्रैक्टर का इस्तेमाल करने पर यह सॉफ्ट और रोटावेटर को घुमाने का काम करती है यह थी रोटावेटर की बनावट

रोटावेटर पिटिओ शाफ्ट

rotavator PTO shaft-Full
rotavator PTO shaft-Full

रोटावेटर को कार्यशील करने में पीटीओ की मुख्य भूमिका है।इस विधि को पावर ट्रांसमिशन यानी विद्युत संचार भी कहते हैं।पीटीओ शाफ्ट अलॉय स्टील से बनी एक ड्राइव साफ्ट होती है। जिसका एक सिरा रोटावेटर के साथ और दूसरा सिरा ट्रैक्टर में लगे पीटीओ  के साथ जोड़ दिया जाता है। पीटीओ साफ्ट के दोनों सिरे एक समान होते हैं।

ट्रैक्टर से जुड़ने के बाद इसको कार्यशील करने के लिए घूमना होता है, फिर विद्युत संचार शुरू होता है, तब रोटावेटर घूमना शुरू कर देता है। पीटीओ शाफ्ट आकार में सीधी लंबी और गोल होती है। पिटिओ शाफ्ट लचीली होती है ताकि यह हर तरह की गति का झटका सहन कर सके।

rotavator PTO shaft
rotavator PTO shaft

पीटीओ शाफ्ट के घूमने की गति उसके साथ जुड़े उपकरण पर और कार्य पर निर्भर करती है और रोटावेटर को संचालित करके कार्यशील बनाने के लिए पीटीओ शाफ्ट की गति जो कि ट्रैक्टर के द्वारा दी जाती है 500rpm होती है।

समय के साथ-साथ पीटीओ शाफ्ट मे बदलाव किए गए। इसके सीरो के आकार भी अलग-अलग होते हैं। जो आप चित्र में देख सकते हो।

rotavator pto-tubing-chart-styles
rotavator pto-tubing-chart-styles

आधुनिक तकनीक से तैयार की गई पीटीओ शाफ्ट का ऊपरी हिस्सा पूरी तरह से ढका हुआ होता है, ताकि कार्यान्वित होने के समय इस पर धूल मिट्टी का असर ना हो। जिसकी वजह से पिटिओ शाफ्ट में खराबी आने की संभावना कम हो जाती है।पीटीओ शाफ्ट को इस्तेमाल करना बहुत ही सरल है।

rotavator PTO shaft-pic
rotavator PTO shaft-pic

रोटावाटर मल्टी-स्पीड गियरबॉक्स

रोटावेटर किसी भी प्रकार की जलवायु किसी भी प्रकार की भूमि पर इस्तेमाल किया जा सकता है। रोटावेटर को गतिशील करने के लिए इसका सबसे अहम हिस्सा होता है गियर बॉक्स और गियर बॉक्स क्या होता है आइए जाने।

गेंहू की फसल

रोटावेटर के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले गियर बॉक्स दो प्रकार के होते हैं।

  • सिंगल स्पीड बेवेल पिनियन गियर बॉक्स
  • मल्टी स्पीड बेवेल पिनियन गियर बॉक्स

बेवेल पिनियन गियर बॉक्स 

rotavator gear box
rotavator gear box

सात फुटे रोटावेटर गियर बॉक्स के लिए d m a 968

इस गियर बॉक्स को गतिशील करने के लिए इनपुट आरपीएम 540 दिया जाता है । रोटावेटर कार्यशील होने पर 254 आरपीएम की गति को प्राप्त करता है। इसको आउटपुट बोलते हैं जो कि 254 आरपीएम है। इस पूरी गतिविधि को अंजाम देने के लिए मुख्य भूमिका निभाते हैं 2 खास हिस्से जिनके नाम हैं ।

बेवेल गियर

bevel-gears
bevel-gears

ये दोनों आकार में कम ज्यादा होते हैं इनकी बनावट वृताकार होती है इन के ऊपरी हिस्से पर दांत नुमा उभार कटे होते हैं । बेवेल गियर की खास किस्म की बनावट के कारण गतिशील होने के बाद यह किसी भी प्रकार की आवाज नहीं करती। बेवेल चक्र को खास तरह से तैयार बख्शे के अंदर सुरक्षित किया जाता है , बाद में उस बख्से को लुब्रीकेंट से भर दिया जाता है। 

तकनीकी विशेषज्ञ – (कृषि और एनडीवीआई)

जिससे बेवेल चक्र को घूमने में सहायता मिलती है। बेवेल गियर को एक दूसरे के सहायक बनाने का खास उदेशय कार्य को सक्षम रूप से पूर्ण कराना और कार्य क्षमता को बढ़ाना है । जब पीटीयो सॉफ्ट द्वारा गियर बॉक्स को गति प्राप्त होती है। उस गति को रोटर तक पहुंचाने में बेवल गियर का मुख्य कार्य है। गियर बॉक्स के अंदर लगी बेवेल चक्र घूमने लगती है जिसके द्वारा गियर बॉक्स से जोड़ी गयी शाफ़्ट घूमने लगती है , जोकि रोटावेटर के बांए हिस्से में लगे गियर बॉक्स को गति प्रदान करती है। 

बेवेल गियर के लाभ  

  • गजब का शक्ति प्रशारण 
  • हानि होने के बहुत कम अवसर
  • दांतों के अनुपात में बदलाव के अनुसार गति को घटाना और बढ़ाना संभव 
  • कम रख रखाव बेहतरीन कार्यक्षमता

बेवेल गियर के नुकसान 

  • ये एक दूसरे के सहायक होते है किसी अन्य के नहीं 
  • अच्छी प्रकार से संरक्षण करना पड़ता है 
  • बल का प्रसारण क्षमतापूर्ण होना चाहिए 

Rotavator use in Agriculture 

Leave a Comment